• Home »
  • Daily Current Affairs »
  • भारतीय सेना का पराक्रम, पाकिस्तान पर दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक (एयर स्ट्राइक ) जाने भारतीय वायुसेना और डसॉल्ट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों का दम,

भारतीय सेना का पराक्रम, पाकिस्तान पर दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक (एयर स्ट्राइक ) जाने भारतीय वायुसेना और डसॉल्ट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों का दम,

Share This Article with Your Friends

 

 

 

भारतीय सेना का पराक्रम, पाकिस्तान पर दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक (एयर स्ट्राइक ) जानें इसके बारे में

भारत ने पुलवामा में हुए आंतकी हमले का बदला  सर्जिकल स्‍ट्राइक कर के ले लिया है। भारत की वायु सेना ने मंगलवार 26 फरवरी को सुबह करीब साढ़े तीन बजे गुलाम कश्‍मीर में एयर स्‍ट्राइक (air strike) कर दिया। मंगलवार सुबह हुई इस कार्रवाई में भारतीय वायुसेना के मिराज 2000 लड़ाकू विमानों अपना दम दिखाया है। सेना ने सीमा को पार कर आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्‍मद के एक कैंप पर 1000 किलोग्राम के बम बरसाए, हमले में शामिल आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कई अड्डे एयर फोर्स की कार्रवाई में ध्वस्त हुए हैं , वायुसेना की इस कार्रवाई में 300 से ज्यादा आतंकियों के मारे जाने की खबर है

भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा (LoC) के पास सभी एयर डिफेंस सिस्टम को हाई अलर्ट पर रखा है। पठानकोट और हिंडन एयरबेस जैसे देश के प्रमुख एयर फोर्स स्टेशनों पर अलर्ट के साथ-साथ सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद किया विदेश सचिव विजय गोखले ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि भारतीय वायुसेना के इस Air Strikes में जैश-ए-मुहम्मद के कई आतंकवादी, उनके ट्रेनर और कमांडर मारे गए हैं। उन्होंने बताया कि एयर स्ट्राइक के दौरान इस बात का ध्यान रखा गया था कि वहां के आम लोगों को किसी तरह का कोई नुकसान न हो। भारत ने 26 फरवरी को सुबह साढ़े तीन बजे हमला किया .जिसमे भारत ने बालाकोट, मुजफ्फराबाद और चकोटी के रास्‍ते ये हमले किए.

 

मिराज 2000 विमान की खासियत

मिराज विमान एक फ्रांसिसी लड़ाकू विमान हैं. इसे दसॉ नामक विमान कंपनी ने बनाया है. इसी कंपनी ने राफेल ‍विमान भी बनाएं हैं. डसॉल्ट मिराज 2000 हवा से सतह प मिसाइल और हथियार से हमला करने के साथ-साथ लेजर गाइडेड बम (LGB) दागने में भी सक्षम है.

सॉल्ट मिराज 2000 लड़ाकू विमान 29 जून 1985 में भारतीय वायुसेना की नंबर- 7 स्क्वाड्रन में औपचारिक रूप से शामिल किया गया था. मिराज 2000 लड़ाकू विमान 1999 के कारगिल युद्ध में भी दुश्मनों के दांत खट्टे कर चुका है.

मिराज द्वारा दागे गए लेजर गाइडेड बम ने दुश्मन के अहम बंकरों को ध्वस्त कर दिया था. मिराज 2000 में हथियारों को ले जाने के लिए नौ हार्डपॉइंट दिए गए हैं. जिसमें पांच प्लेन के नीचे और दो दोनों तरफ के पंखों पर दिया गया है. सिंगल-सीट संस्करण भी दो आंतरिक हैवी फायरिंग करने वाली 30 मिमी बंदूखों से लैस है. कारगिल युद्ध के बाद मिराज विमानों का अपग्रेडेशन भी किया गया.

 

 

 

Print Friendly, PDF & Email