• Home »
  • General Topic »
  • G-20 Summit 2019 (जी-20 शिखर सम्मेलन 2019) – Important Analysis

G-20 Summit 2019 (जी-20 शिखर सम्मेलन 2019) – Important Analysis

Share This Article with Your Friends

modi in g 20

प्रारम्भ तिथि : , शुक्रवार, 28 जून 2019
अंतिम तिथि  :  शनिवार,  29 जून 2019

जापान के ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन किया गया है। इस शिखर सम्मलेन (2019 G20 Osaka summit) में पीएम मोदी, ट्रंप समेत इस इस ग्रुप के कई देश के नेता शिरकत कर रहे हैं।  शुक्रवार की सुबह जी 20 समिट से इतर सबसे पहले भारत, जापान और अमेरिका के बीच त्रिपक्षीय बैठक हुई। अमेरिका-जापान-भारत के नेताओं की त्रिपक्षीय बैठक में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने हिस्सा लिया। इस दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी और शिंजो आबे को जीत की बधाई दी और कहा कि आप दोनों अपने देश के लिए अच्छा काम कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस बैठक में तीनों देशों के बीच कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इसके बाद पीएम मोदी और डोनाल्ड ट्रंप के बीच द्वीपक्षीय बातचीत हुई। जापान के ओसाका में जी-20 सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच मुलाकात हुई। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस बैठक में पीएम मोदी और ट्रंप में चार मुद्दों मसलन, ईरान, 5जी, द्विपक्षीय संबंध और रक्षा पर बातचीत हुई। इस मुलाकात के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी को लोकसभा चुनाव में जीत के लिए बधाई भी दी।

जी-20 शिखर सम्मेलन 2019 का आयोजन करने वाला देश एवं शहर : जापान के ओसाका में जी-20 सम्मेलन जी-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन किया गया

जी-20 शिखर में सबसे पहले होने वाली त्रिपक्षीय बैठक :  भारत, जापान और अमेरिका के बीच


जी-20 शिखर सम्मेलन 2019 में शामिल देश :

जी-20 सदस्यों में अर्जेंटीना, अरब, ब्रिटेन, यूरोपियन यूनियन ब्राजील, इटली, मैक्सिको, कोरिया गणराज्य, रूस, तुर्की, अमेरिका, साउथ अफ्रीका, चीन, जर्मनी, इंडोनेशिया, जापान, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, फ्रांस, भारत, सऊदी शामिल है। जी-20 में दुनिया का 80 प्रतिशत व्यापार, दो-तिहाई जनसंख्या और दुनिया का करीब आधा हिस्सा शामिल है

जी-20 शिखर में भारत की पहल एवं अपील,

ओसाका में भारत ने दुनिया के देशों से अपील की है कि करप्शन के खिलाफ सभी देशों को मिलकर लड़ना चाहिए. भारत ने कहा है कि विदेशी घुसखोरी पर रोक लगाने की जरूरत है. पीएम मोदी के साथ जापान गए सुरेश प्रभु ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत लगातार कहता रहा है कि हमें वैश्विक स्तर पर भ्रष्टाचार के विरुद्ध उपाय की जरूरत है. इसलिए भ्रष्टाचार के खिलाफ सभी जी-20 देशों को आना चाहिए और विदेशी घुसखोरी पर रोक लगाना चाहिए.

G-20 शिखर सम्मेलन में शनिवार को पर्यावरण के मुद्दों पर ध्यान दिया जाएगा. इसमें जी-20 के नेताओं के 2050 तक दुनिया के महासागरों में प्लास्टिक कचरे के डंपिंग को समाप्त करने के लिए सहमत होने की उम्मीद है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को रूस-भारत-चीन (आरआईसी) त्रिपक्षीय मंच पर ओसाका में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ मुलाकात के दौरान आतंकवाद से उत्पन्न वैश्विक चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए इस मसले पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन की जरूरत बताई.

जी 20 शिखर सम्मेलन 2019 की मुख्य थीम क्या है 

  • विकास (Development)
  • वैश्विक अर्थव्यवस्था (Global Economy)
  • महासागरों में प्लास्टिक कचरे के डंपिंग को समाप्त करना
  • नवाचार(Innovation)
  • स्वच्छ पर्यावरण एवं ऊर्जा (Clean Environment and Energy)
  • रोजगार में वृध्दि (Employment growth)
  • महिलाओं का सशक्तिकरण (Women’s Empowerment)
  • व्यापार और निवेश (Trade and Investment)
  • स्वास्थ्य (Health)

Print Friendly, PDF & Email