BRO constructs bridge in record time on a key road connecting strategic areas in Arunachal Pradesh


BRO constructs bridge in record time on a key road connecting strategic areas in Arunachal Pradesh


 

Daporijo Bridge over Subansiri river has been constructed by Border Roads Organisation (BRO), keeping in mind utmost precautions against COVID-19 so as to connect this strategic Line of Communication in Arunachal Pradesh.

Bridge on Daporijo River is a strategic link towards the LAC between India and China. All supplies, rations, constructional material and medicines pass over this bridge. Old Bridge developed cracks which could lead to a major catastrophe like on 26 Jul 1992 when a passenger bus fell off the bridge leaving no survivors.

Work had started for construction of the bridge on March 17, 2020 by 23 BRTF. Finally after 27 days on April 14, 2020 the bridge was jacked down successfully and safely on the supports. It has been successfully upgraded from class 24 tons to class 40 tons thereby allowing heavier vehicles to pass catering for not only Army requirements but the future Infrastructure development requirements of Upper Subansiri district.  

Chief Minister of Arunachal Shri Pema Khandu inaugurated it over video conferencing and open for traffic movement from today.                                                                                                                          

Source   pib-

 


बीआरओ ने अरुणाचल प्रदेश में रणनीतिक क्षेत्रों को जोड़ने वाले एक प्रमुख सड़क पर रिकॉर्ड समय में पुल का निर्माण किया


सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने कोविड-19 के खिलाफ सर्वाधिक सावधानियों को ध्यान में रखते हुए सुबनसिरी नदी पर दापोरिजो पुल का निर्माण कर दिया है जिससे कि अरुणाचल प्रदेश में संचार की इस रणनीतिक लाइन को जोड़ा जा सके।

दापोरिजो पुल भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा की दिशा में एक रणनीतिक कड़ी है। सभी आपूर्तियां, राशन, निर्माण संबंधी सामग्री और दवाएं इसी पुल से गुजरती हैं। पुराने पुल में दरार आ गई थी जिसकी वजह से 26 जुलाई 1992 जैसी बड़ी दुर्घटना हो सकती थी जब एक यात्री बस पुल से नदी में गिर गई थी और उसमें किसी की भी जान नहीं बची थी। 

पुल के निर्माण का कार्य 23 बीआरटीएफ द्वारा 17 मार्च, 2020 को आरंभ किया गया था। आखिरकार, 27 दिनों के बाद 14 अप्रैल, 2020 को पुल को सफलतापूर्वक और सुरक्षित तरीके पुरी तरह तैयार कर दिया गया। इसे सफलतापूर्वक क्लास 24 टन से 40 टन में अपग्रेड किया गया है जिससे कि न केवल सेना की आवश्यकता वाले भारी वाहनों को इससे गुजरने में आसानी हो बल्कि अपर सुबनसिरी जिले की भविष्य संबंधी अवसंरचना विकास आवश्यकता की भी पूर्ति हो सके।

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री पेमा खांडु ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इसका उद्घाटन किया तथा आज इसे वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया।

स्रोत   pib-

Print Friendly, PDF & Email