Raksha Mantri Shri Rajnath Singh inaugurates DRDO developed Mobile Laboratory to test COVID19 samples


Raksha Mantri Shri Rajnath Singh inaugurates DRDO developed Mobile Laboratory to test COVID19 samples


 

Raksha Mantri Shri Rajnath Singh unveiled via video conference a Mobile Virology Research and Diagnostics Laboratory (MVRDL) developed by DRDO in association with ESIC Hospital, Hyderabad and Private industry.

The function was also attended by Shri G Kishan Reddy Hon’ble Union Minister of State for Home Affairs, Shri Santosh Kumar Gangwar Hon’ble Union Minister of State for Labour & Employment, Shri KT Rama Rao Hon’ble Minister for IT Industries, Muncipal Administration & Urban Development, Govt of Telangana, Shri Ch Malla Reddy Hon’ble Minister of Labour, Govt of Telangana and Dr G Satheesh Reddy Secretary DDR&D & Chairman DRDO.

The first of such Mobile Viral Research Lab (MVRL) that will speed up COVID-19 screening and related R&D activities was developed by Research Centre Imarat (RCI), the Hyderabad based laboratory of DRDO in consultation with ESIC Hospital, Hyderabad.

The Mobile Viral Research Lab is the combination of a BSL 3 lab and a BSL 2 lab essential to carry out the activities. The labs are built as per WHO and ICMR Bio-safety standards to meet international guidelines. The system has built in electrical controls, LAN, Telephone cabling, and CCTV.

The Mobile Lab will be helpful to carry out diagnosis of COVID-19 and also virus culturing for drug screening, Convalescent plasma derived therapy, comprehensive immune profiling of COVID-19 patients towards vaccine development early clinical trials specific to Indian population. The lab screens 1000-2000 samples per day. This lab can be positioned anywhere in the country, as per requirement.

 

Source  pib-

 


रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने COVID19 नमूनों का परीक्षण करने के लिए DRDO द्वारा विकसित मोबाइल प्रयोगशाला का उद्घाटन किया


क्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मोबाइल वायरोलॉजी रिसर्च एंड डायग्नोस्टिक्स लेबोरेटरी (एमवीआरडीएल) का अनावरण किया, जिसे डीआरडीओ ने ईएसआईसी अस्पताल, हैदराबाद और निजी उद्योग के सहयोग से विकसित किया है।

इस समारोह में केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी, श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री श्री संतोष कुमार गंगवार, तेलंगाना सरकार में सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग, नगरपालिका प्रशासन एवं शहरी विकास मंत्री श्री के. टी. रामा राव, तेलंगाना सरकार में श्रम मंत्री श्री सी. एच. मल्ला रेड्डी और डीडीआरएंडडी को सचिव एवं डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ जी. सतेश रेड्डी मौजूद थे।

यह ऐसा पहला मोबाइल वायरल अनुसंधान प्रयोगशाला (एमवीआरएल) है, जिससे कोविड-19 की स्क्रीनिंग और इससे संबंधित अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों में तेजी आएगी। इसे डीआरडीओ की हैदराबाद स्थित प्रयोगशाला रिसर्च सेंटर इमारात (आरटीआई) ने ईएसआईसी अस्पताल, हैदराबाद के साथ मिलकर तैयार किया है

मोबाइल वायरल रिसर्च प्रयोगशाला, एक बीएसएल 3 प्रयोगशाला और एक बीएसएल 2 प्रयोगशाला का संयोजन है जो क्रियाकलापों को पूरा करने के लिए आवश्यक है। इन प्रयोगशालाओं का निर्माण डब्लूएचओ और आईसीएमआर जैव-सुरक्षा मानकों के अनुसार किया जा रहा है ताकि अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों का पालन हो सकेक। इस प्रणाली को विद्युत नियंत्रण, एलएएन, टेलीफोन केबलिंग और सीसीटीवी शामिल हैं।

यह प्रयोगशाला कोविड-19 की डायग्नोसिस और दवा स्क्रीनिंग के लिए वायरस कल्चरिंग, स्वास्थ्य लाभ से संबंधित प्लाज्मा व्युत्पन्न चिकित्सा, टीका के विकास के लिए कोविड-19 रोगियों की व्यापक प्रतिरक्षा प्रोफाइलिंग और भारतीय जनसंख्या के लिए प्रारंभिक नैदानिक ​​परीक्षण में मददगार साबित होगी। प्रयोगशाला में प्रति दिन 1,000 -2,000 नमूनों की जांच की जाती है। इस प्रयोगशाला को आवश्यकता के अनुसार देश में कहीं भी तैनात किया जा सकता है।

 

स्रोत  pib-

Print Friendly, PDF & Email