Cabinet Secretary chairs NCMC meeting to review preparedness for the impending Cyclone in the Bay of Bengal


Cabinet Secretary chairs NCMC meeting to review preparedness for the impending Cyclone in the Bay of Bengal


 
 
 
 
A meeting of the National Crisis Management Committee (NCMC), chaired by the Cabinet Secretary, Shri Rajiv Gauba, was held to review the preparations for the impending cyclone over the Bay of Bengal.
 
IMD informed that the Depression, that has developed in the Bay of Bengal, is likely to intensify into a Cyclonic storm and is likely to cross Odisha and West Bengal coasts by May 20, 2020.Heavy to extremely heavy rainfall, accompanied by high speed winds and tidal waves are expected.
 
  • During the meeting, officers of the concerned State Governments confirmed their preparedness to deal with any emerging situation arising out of the cyclonic storm.
  • Further, the State Governments have adequately warned fishermen not to venture into the sea. Cyclone shelters have been readied and areas requiring evacuation of people identified.
  • NDRF, Armed Forces and the Indian Coast Guard have been put on alert and are coordinating with State Government Authorities.
  • Cabinet Secretary took stock of the current situation and preparedness for rescue and relief operations and directed that immediate assistance, as required, be provided.
 
Senior officials of the Ministries of Home, Defence, as well as those from IMD, NDMA and NDRF, attended the meeting. Chief Secretaries and other senior officers from the State Governments participated in the meeting through Video Conference.
 
Source  pib-
 

कैबिनेट सचिव ने बंगाल की खाड़ी में आने वाले चक्रवाती तूफान की तैयारी की समीक्षा के लिए एनसीएमसी बैठक की अध्यक्षता की

कैबिनेट सचिव श्री राजीव गौबा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) की एक बैठक बंगाल की खाड़ी में आने वाले चक्रवाती तूफान की तैयारी की समीक्षा के लिए आयोजित की गई।
 
आईएमडी ने सूचित किया कि बंगाल की खाड़ी में जो दबाव बना है, उसके एक चक्रवाती तूफान में बदल जाने और 20 मई, 2020 तक ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों से गुजरने का अनुमान है। बेहद तेज गति की हवाओं और ज्वारीय लहरों के साथ भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है।
 
  • बैठक के दौरान, संबंधित राज्य सरकारों ने चक्रवाती तूफान से उत्पन्न किसी भी उभरती स्थिति से निपटने की उनकी तैयारियों की पुष्टि की।
  • इसके अतिरिक्त, राज्य सरकारों ने मछुआरों को समुद्रर में न जाने की पर्याप्त चेतावनी दे दी है।
  • तूफान आश्रय स्थलों को तैयार कर लिया गया है और जिन क्षेत्रों से लोगों की निकासी की जानी है, उनकी पहचान कर ली गई है।
  • एनडीआरएफ, सशस्त्र बलों और भारतीय तटरक्षक को सावधान कर दिया गया है और वे राज्य सरकार के प्राधिकारियों के साथ समन्वय कर रहे है। उन्होंने खुद को समुचित रूप से मुस्तैद कर रखा है।
  • कैबनेट सचिव ने वर्तमान स्थिति और बचाव और राहत कार्यों की तैयारियों का जायजा लिया और निर्देश दिया कि जैसी भी आवश्यकता हो, तत्काल सहायता उपलब्ध कराई जाए।
 
गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय तथा आईएमडी, एनडीएमए एवं एनडीआरएफ के वरिष्ठ अधिकारियों ने बैठक में भाग लिया। राज्य सरकारों के मुख्य सचिवों एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बैठक में भाग लिया।
 
स्रोत   pib-
 
 
 
Print Friendly, PDF & Email