RNA extraction kit Agappe Chitra Magna launched commercially for detection of COVID 19


RNA extraction kit Agappe Chitra Magna launched commercially for detection of COVID 19


 

 

Dr VK Saraswat, NITI Aayog member and President of Institute body of Sree Chitra Tirunal Institute for Medical Sciences and Technology (SCTIMST) announed,the commercial launch of Agappe Chitra Magna, a magnetic nanoparticle-based RNA extraction kit for use during testing for detection of COVID-19. 

The RNA extraction kit was developed by Sree Chitra Tirunal Institute for Medical Sciences and Technology (SCTIMST), Trivandrum, an Institute of National Importance of the Department of Science and Technology (DST) along with Agappe Diagnostics Ltd, an in vitro diagnostics manufacturing company based in Cochin. 

The launch programme was organized by SCTIMST in collaboration with Agappe Diagnostics Ltd at the Biomedical Technology Wing of SCTIMST, and it was followed by the first sale of the product by Mr. Thomas John, Managing Director, Agappe Diagnostics, to officials from Amrita Institute of Medical Sciences, Kochi.

Inexpensive, fast, and accurate testing for COVID-19 virus is the cornerstone of containing its spread and providing appropriate help to the infected. The Chitra Magna, an innovative RNA extraction kit developed by SCTIMST under the leadership of senior scientist, Dr. Anoop kumarThekkuveettil, was transferred to Agappe Diagnostics in April 2020, and will now be available in the market as Agappe Chitra Magna RNA Isolation Kit. This product has been independently validated at National Institute of Virology for Covid19 RNA isolation. Central Drugs Standard Control Organisation (CDSCO) has given approval for the commercialization of this kit. The kit can be used for RNA extraction for RT-LAMP, RT-qPCR, RT-PCR and other isothermal and PCR based protocols for the detection of SARS-COV-2.

It uses an innovative technology for isolating RNA using magnetic nanoparticles to capture the RNA from the patient sample. The magnetic nanoparticle beads bind to the viral RNA and, when exposed to a magnetic field, give a highly purified and concentrated RNA. As the sensitivity of the detection method is dependent on getting an adequate quantity of viral RNA, this innovation enhances the chances of identifying positive cases.

Agappe Chitra Magna RNA Isolation Kit priced around Rs. 150 per kit is expected to reduce the cost of testing and the country’s dependence on imported kits which cost around Rs 300. Agappe Diagnostics has a manufacturing capacity of kits for performing 3Lkah kits per month. 

 

Source   pib-

 


कोविड-19 की जांच के लिए आरएनए निष्कर्षण किट अगप्पे चित्रा मैग्ना को वाणिज्यिक तौर पर लॉन्च किया गया


नीति आयोग के सदस्‍य और श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (एससीटीआईएमएसटी) के संस्‍था बोर्ड के अध्‍यक्ष डॉ. वीके सारस्‍वत ने आज यहां कोविड-19 की जांच के दौरान उपयोग के लिए चुंबकीय नैनोकण आधारित आरएनए निष्‍कर्षण किट अगप्‍पे चित्रा मैग्‍ना के वाण‍िज्यिक लॉन्‍च की घोषणा की। 

इस आरएनए निष्कर्षण किट को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग का एक राष्‍ट्रीय महत्‍व के संस्‍थान श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (एससीअीआईएमएसटी), त्रिवेंद्रम ने कोच्चि की इन विट्रो डायग्‍नोस्टिक्‍स विनिर्माण कंपनी  अगप्‍पे डायग्‍नोस्टिक्‍स लिमिटेड के साथ मिलकर विकसित किया था।

इस लॉन्‍च कार्यक्रम का आयोजन एससीटीआईएमएसटी ने अगप्‍पे डायग्‍नोस्टिक्‍स लिमिटेड के साथ मिलकर बायोमेडिकल टेक्नोलॉजी विंग में किया। उसके बाद इस उत्पाद की पहली बिक्री अगप्‍पे डायग्‍नोस्टिक्‍स के प्रबंध निदेशक श्री थॉमस जॉन द्वारा अमृता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, कोच्चि के अधिकारियों द्वारा को की गई थी।

कोविड-19 वायरस के लिए सस्ती, त्‍वरित एवं सटीक जांच इसके फैलाव को रोकने और संक्रमित लोगों को उचित सहायता प्रदान करने की बुनियाद है। वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. अनूप कुमार थेकुवेट्टील के नेतृत्व में एससीटीआईएमएसटी द्वारा विकसित एक अभिनव आरएनए निष्कर्षण किट चित्रा मैग्ना को अप्रैल 2020 में अगप्‍पे डायग्‍नोस्टिक्‍स को स्थानांतरित किया गया था और अब यह अगप्‍पे चित्रा मैग्‍ना आरएनए आइसोलेशन किट के रूप में बाजार में उपलब्ध होगी। कोविड-19 आरएनए आइसोलेशन के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में इस उत्पाद को स्वतंत्र रूप से मान्यता दी गई है। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने इस किट के वाणिज्यिकरण के लिए मंजूरी दे दी है। एसएआर-सीओवी-2 का पता लगाने के लिए इस किट का उपयोग आरटी-लैंप, आरटी-क्यूपीसीआर, आरटी-पीसीआर और अन्य आइसोथर्मल और पीसीआर आधारित प्रोटोकॉल के लिए आरएनए निष्कर्षण के लिए किया जा सकता है।

यह रोगी के नमूने से आरएनए को पकड़ने के लिए चुंबकीय नैनोकणों का उपयोग करके आरएनए को अलग करने की एक अभिनव तकनीक का उपयोग करता है। चुंबकीय नैनोकण वायरल आरएनए से जुड़ते हैं और जब वे चुंबकीय क्षेत्र के संपर्क में होते हैं तो अत्यधिक शुद्ध आरएनए को एकत्रित करते हैं। इस जांच विधि की संवेदनशीलता पर्याप्‍त मात्रा में वायरल आरएनए की प्राप्ति पर निर्भर करती है और यह नवाचार कोविड-19 से संक्रमित मामलों की पहचान करने की संभावना को बढ़ाता है।

लगभग 150 रुपये कीमत के साथ अगप्पे चित्रा मैग्ना आरएनए आइसोलेशन किट से कोविड-19 की जांच की लागत घटने और लगभग 300 रुपये कीमत वाले आयातित किट पर देश की निर्भरता कम होने की उम्मीद है। अगप्‍पे डायग्नोस्टिक्स की क्षमता प्रति माह 3 लाख किट के उत्‍पादन की है।

 

स्रोत   pib-

Print Friendly, PDF & Email