IIT Guwahati develops affordable diagnostic kits for COVID-19


IIT Guwahati develops affordable diagnostic kits for COVID-19


 

 

Indian Institute of Technology (IIT) Guwahati, in association with RR Animal Healthcare Ltd and Guwahati Medical College and Hospital (GMCH), has developed low-cost diagnostic kits. These are Viral Transport Media (VTM) kits, RT-PCR kits, and RNA isolation kits.

  • The VTM kits are the first-stop source used to collect nasal and oral swab specimens from an individual source to a laboratory safely for culture and testing.
  • During this period, the virus, if present, in the sample specimens should remain intact until the testing procedure is completed.
  • The kit consists of a comprehensive solution specially formulated for the collection and transport of SARS-CoV-2.
  • These kits comprise two transport media, one for nasopharyngeal and the other for oropharyngeal specimen collection swabs.
  • Both of these are safe to use as they are recommended and validated by the Centre for Disease Control and Prevention (CDC) as well. .
  • The complete package is suitable for the collection, transport, maintenance, and long-term freezer storage of viral specimens.
  • The unique formulation of the transport medium helps in preserving the viability of viruses for up to 72 hours (at refrigerated temperatures).
  • The swabs have been designed ergonomically with a pre-molded breakpoint on their shaft for enabling secure sampling.
  • These sterile VTM kits comply with the CDC-recommended configurations for viral specimen collection for COVID-19 and are packed in user-friendly individual packs. 

In addition to the sterile VTM kits, the Institute has also developed RNA isolation kits and RT-PCR kits jointly with RR Animal Healthcare Ltd. The isolated and purified RNA is then converted to DNA by an enzyme Reverse Transcriptase (RT), which is used to confirm the presence or absence of COVID-19. The large-scale production of all these kits has commenced to meet the requirement of Assam and will be made available across the country soon.

 

Source   pib-


आईआईटी गुवाहाटी ने कोविड-19 के लिए सस्ते डायग्नोस्टिक किट विकसित किए


रआर एनिमल हेल्थकेयर लिमिटेड और गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जीएमसीएच) के साथ मिलकर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) गुवाहाटी ने कम लागत वाले नैदानिक ​​किट विकसित किए हैं। ये वायरल ट्रांसपोर्ट मीडिया (वीटीएम) किट, आरटी-पीसीआर किट और आरएनए आइसोलेशन किट हैं।

  • वीटीएम किट पहले पड़ाव वाले स्रोत हैं जिनका उपयोग नाक और मुंह के स्वाब नमूनों को व्यक्तिगत स्रोत से इकट्ठा करके संस्कृति और परीक्षण के लिए सुरक्षित रूप से प्रयोगशाला ले जाने के लिए किया जाता है।
  • इस अवधि के दौरान, अगर वायरस मौजूद है तो नमूनों को परीक्षण प्रक्रिया पूरी होने तक अछूता रहना चाहिए।
  • इस किट में एसएआरएस-सीओवी-2 के संग्रह और परिवहन के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया व्यापक समाधान भी शामिल है।
  • इन किटों में दो ट्रांसपोर्ट मीडिया शामिल हैं, एक नेज़ोफैरिन्जियल और दूसरा ऑरोफैरिन्जियल नमूना संग्रह पट्टियों (स्वाब) के लिए।
  • इन दोनों का उपयोग करना सुरक्षित है क्योंकि इन्हें सेंटर फॉर डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) द्वारा अनुशंसित और मान्य किया गया है। 
  • ये पूरा पैकेज वायरल नमूनों के संग्रह, परिवहन, रखरखाव और दीर्घकालिक फ्रीजर भंडारण के लिए उपयुक्त है।
  • परिवहन माध्यम का अनूठा सूत्रीकरण 72 घंटे (रेफ्रीजरेटेड तापमान पर) के लिए इसमें वायरसों की व्यवहार्यता को संरक्षित करने में मदद करता है।
  • इन स्वाब को उपयोग की सहजता के हिसाब से डिजाइन किया गया है जिसमें सुरक्षित सैंपलिंग करने के लिए उनके डंडे पर प्री-मोल्डेड ब्रेकपॉइंट बना है।
  • ये रोगाणुरहित वीटीएम किट कोविड-19 के वायरल नमूना संग्रह के लिए सीडीसी के सुझाव वाले कॉन्फ़िगरेशन के मुताबिक हैं और उपयोग करने में बहुत आसान पैक में तैयार किए जाते हैं। 

 

इन रोगाणुरहित वीटीएम किटों के अलावा, इस संस्थान ने आरआर एनिमल हेल्थकेयर लिमिटेड के साथ संयुक्त रूप से आरएनए आइसोलेशन किट और आरटी-पीसीआर किट भी विकसित किए हैं। ये पृथक और शुद्ध किए आरएनए फिर एक एंजाइम रिवर्स ट्रांसक्रिपटेस (आरटी) द्वारा डीएनए में परिवर्तित किए जाते हैं, जिसका उपयोग कोविड-19 की मौजूदगी या गैर-मौजूदगी की पुष्टि करने के लिए किया जाता है। इन सभी किटों का बड़े पैमाने पर उत्पादन असम की ज़रूरत को पूरा करने के लिए शुरू किया गया है और जल्द ही इसे देश भर में उपलब्ध कराया जाएगा।

 

स्रोत    pib-

Print Friendly, PDF & Email