Shri Dharmendra Pradhan Lays the Foundation Stone of Indian Oil’s R&D Campus In Faridabad

Share This Article with Your Friends
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Shri Dharmendra Pradhan Lays the Foundation Stone of Indian Oil’s R&D Campus In Faridabad


 

 

Minister of Petroleum and Natural Gas &Steel Shri Dharmendra Pradhan, along with the Haryana Chief Minister Shri Manohar Lal, laid the foundation stone of Indian Oil’s state-of-the-art Technology Development & Deployment Centre as its second R&D Campus at IMT, Sector-67, Faridabad.

  • The new centre, with an investment of Rs. 2282 crore, and covers an area of about 59 acres.
  • The new campus would focus on demonstration & deployment of various technologies developed by IndianOil R&D, and will work in tandem with the existing campus at Sector-13, Faridabad.
  • The research infrastructure at the new campus includes state-of-the-art laboratories and pilot plants in the domains of alternative & renewable energy, e.g., fuel cell, Hydrogen, gasification & solar energy research, semi-commercial nano-material production unit, scale-up/pilot plants in petrochemicals, catalysts, biotechnology, etc.
  • This new extension of Indian Oil’s R&D Centre is going to focus on non-conventional energy domains besides the conventional ones and will aim at indigenisation of several frontline and sunrise technologies such as Petrochemicals, Batteries/Energy Storage Devices, Bio-Energy- Greenhouse gas (CO2) capture, Novel nano materials for catalysts or fuel cells, Hydrogen production pathways and Fuel cells for both mobility and stationary applications.

 

Source   pib-

 


श्री धर्मेंद्र प्रधान ने फरीदाबाद में इंडियन ऑयल के अनुसंधान एवं विकास परिसर का उद्घाटन किया


पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के साथ आईएमटी, सेक्टर- 67, फरीदाबाद में दूसरे अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी) परिसर के रूप में इंडियन ऑयल के अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी विकास और परिनियोजन (तैनाती) केंद्र का उद्घाटन किया।

  • 2282 करोड़ रुपये के निवेश से तैयार यह नया केंद्र लगभग 59 एकड़ जमीन पर बना है।
  • इस नए परिसर में इंडियन ऑयल के अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी) द्वारा विकसित विभिन्न प्रौद्योगिकियों के प्रदर्शन और उनकी तैनाती पर मुख्य तौर पर ध्यान दिया जाएगा और यह सेक्टर -13, फरीदाबाद में मौजूदा परिसर के साथ मिलकर काम करेगा।
  • नए परिसर में अनुसंधान के बुनियादी ढांचे में वैकल्पिक एवं नवीकरणीय ऊर्जा जैसे- ईंधन सेल, हाइड्रोजन, गैसीकरण एवं सौर ऊर्जा अनुसंधान, अर्ध-वाणिज्यिक नैनो-सामग्री उत्पादन इकाई, पेट्रो-रसायन में स्केल-अप/प्रायोगिक प्लांट, उत्प्रेरक जैव प्रौद्योगिकी  आदि के अत्याधुनिक प्रयोगशालाएं और प्रायोगिक प्लांट शामिल हैं।
  • इंडियन ऑयल के अनुसंधान एवं विकास केंद्र के इस परिसर में पारंपरिक ऊर्जा के साथ ही गैर-पारंपरिक ऊर्जा क्षेत्रों पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा।
  • इस नये केंद्र का उद्देश्य कई फ्रंटलाइन और पेट्रो-रसायन, बैटरी / ऊर्जा भंडारण उपकरण, जैव-ऊर्जा- ग्रीनहाउस गैस (CO2) पर कब्जा, उत्प्रेरक या ईंधन कोशिकाओं के लिए नॉवेल नैनो सामग्री, गतिशीलता और स्थिर अनुप्रयोगों के लिए हाइड्रोजन उत्पादन के तरीके और ईंधन सेल जैसी सनराइज प्रौद्योगिकियों का स्वदेशीकरण करना है।

 

स्रोत    pib-

 

Print Friendly, PDF & Email