Union Minister for Rural Development and Panchayati Raj Shri Narendra Singh Tomar launches Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan web portal

Share This Article with Your Friends
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Union Minister for Rural Development and Panchayati Raj Shri Narendra Singh Tomar launches Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan web portal


Union Minister of Rural Development, Panchayati Raj and Agriculture & Farmers’ Welfare, Shri Narendra Singh Tomar  launched the web portal of the Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan through video conferencing from New Delhi.

The Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan is the massive employment generation-cum-rural infrastructure creation programme of the Government of India which was inaugurated on 20th June 2020 by Prime Minister Shri Narendra Modi with the objective of providing employment to returnee migrant workers at their native places for next four months, because of the situation arising out of the Covid-19 pandemic.

The video conference was attended by Minister of State for Rural Development Sadhvi Niranjan Jyoti, Secretary, Rural Development Shri Nagendra Nath Sinha, 116 Central Nodal Officers appointed by the Government for monitoring the implementation of the Abhiyaan in the identified districts, and top officials of the Ministries and State Governments associated with the Abhiyaan.

The portal will provide information about the district-wise and work-wise components of the Abhiyaan; it will also enable monitoring of the progress and completion of the works



Shri Tomar says that the Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan will provide gainful employment for four months to lakhs of skilled workers who have returned to their native places because of the Covid-19 lockdown


Shri Narendra Singh Tomar expressed happiness at the launch of the portal which besides providing information to the public about the various district-wise and scheme-wise components of the Abhiyaan, will also help to monitor the progress of completion of the works being undertaken with a fund outlay of Rs. 50,000 crore in 116 districts of 6 states, where there are more than 25000 returnee migrant workers per district. Shri Tomar said that the Union Government in coordination with the State Governments has been successful in dealing with the difficult situation created by the Covid-19 pandemic.

Read full Article Here Pib

 

 


केन्द्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान वेब पोर्टल का किया शुभारम्भ


केन्द्रीय ग्रामीण विकास, पंचायती राज और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने आज नई दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गरीब कल्याण रोजगार अभियान के वेब पोर्टल का शुभारम्भ किया। गरीब कल्याण रोजगार अभियान भारत सरकार का समग्र रोजगार सृजन और ग्रामीण बुनियादी ढांचा निर्माण कार्यक्रम है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड-19 महामारी के चलते पैदा हालात के कारण अपने गृह क्षेत्र लौटने वाले प्रवासी कामगारों को अगले चार महीनों तक रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से 20 जून, 2020 को इस अभियान का शुभारम्भ किया था।

वीडियो कॉन्फ्रेंस में ग्रामीण विकास राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति, ग्रामीण विकास सचिव श्री नागेंद्र नाथ सिन्हा, चिन्हित जिलों में अभियान के कार्यान्वयन की निगरानी के लिए सरकार द्वारा नियुक्त 116 केन्द्रीय नोडल अधिकारी और अभियान से जुड़े मंत्रालय और राज्य सरकारों के शीर्ष अधिकारी उपस्थित रहे।

श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने इस पोर्टल के शुभारंभ पर खुशी ज़ाहिर की। ये पोर्टल जनता को इस अभियान के विभिन्न जिला-वार और योजना-वार घटकों के बारे में जानकारी प्रदान करने के अलावा 6 राज्यों के 116 जिलों में 50,000 करोड़ रुपये की व्यय निधि के साथ शुरू किए गए कार्यों को पूरा करने की प्रगति की निगरानी रखने में मदद करेगा।

इन जिलों में प्रति जिला 25000 से अधिक लौटकर आए प्रवासी कामगार हैं। श्री तोमर ने कहा कि राज्य सरकारों के साथ समन्वय करते हुए केंद्र सरकार कोविड-19 महामारी के द्वारा पैदा की गई इन कठिन परिस्थितियों से निपटने में सफल रही है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व के कारण लॉकडाउन की अवधि के दौरान भी कृषि, छोटे उद्योगों से संबंधित गतिविधियों और सरकारी कल्याण और विकास योजनाओं के कार्यान्वयन ने काम करना जारी रखा ताकि गरीब लोगों की आजीविका की समस्याओं को कम किया जा सके।

Sources PIB

Print Friendly, PDF & Email