Union HRD Minister and Union Health Minister jointly launch the Drug Discovery Hackathon 2020 (DDH2020)


Union HRD Minister and Union Health Minister jointly launch the Drug Discovery Hackathon 2020 (DDH2020)


 

 

Union Minister for Human Resource Development Shri Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’,  and,  Union Minister for Health and Family Welfare and Ministry of Science and Technology  Dr. Harsh Vardhan today launched Drug Discovery Hackathon in the presence of MoS Shri Sanjay Dhotre through online platform.

  • This Drug Discovery Hackathon is a joint initiative of MHRD, AICTE and CSIR and supported by partners like CDAC, MyGov, Schrodinger and ChemAxon.
  • This hackathon is first of its kind national initiative for supporting drug discovery process.
  • To attract international talent, the hackathon will be open to participation from across the globe from professionals, faculty, researchers and students from varied fields like computer science, chemistry, Pharmacy, medical sciences, basic sciences and biotechnology.
  • This initiative is open for researchers/faculty across the globe as we are keen on attracting international talent to join and support our efforts.
  • In this initiative, MHRD’s Innovation cell and AICTE will focus on identifying potential drug molecules through the Hackathon while CSIR will take these identified molecules forward for synthesis and laboratory testing for efficacy, toxicity, sensitivity and specificity.
  • The objective is to identify drug candidates against SARS-CoV-2 by in-silico drug discovery through the hackathon and follow up by chemical synthesis and biological testing. 
  • This Hackathon will help India establish new model for expediting drug discovery process.
  • It will have three phases of three months each and the whole exercise is projected to be completed by April-May 2021.
  • At the end of each phase, successful teams will be rewarded.
  • The ‘lead’ compounds identified at the end of phase 3 will be taken forward for experimental level at CSIR and other interested organizations.
  • Hackathon will primarily focus on computational aspects of drug discovery and will have three Tracks. Track-1 will deal with computational modelling for drug design or identifying ‘lead’ compounds from existing databases that may have the potential to inhibit SARS-CoV-2 while Track-2 will encourage participants to develop new tools and algorithms using data analytics and AI/ML approach for predicting drug-like compounds with minimal toxicity and maximal specificity and selectivity. A third track, named Track 3 is a Moon-shot approach which will only deal with novel and out-of-the-box ideas in this field.
  • The hackathon consists of challenges that are posted as problem statements and, are based on specific drug discovery topics which, are open to the participants to solve.
  • The competition is open to all Indian students and researchers from India and abroad.
  • It is an online competition and anybody anywhere in the country or world can participate.
  • The winners will be given prizes and the best entries will be taken into stage 2 of the competition. The best of stage 2 will go to stage 3. The plan is that at the end of the stage 3 competition the best solutions such as drug molecules or drug targets will be taken to the experimental level and validated for their predictions by either CSIR labs or start-ups.

 

Background Information and Methodology of Hackathon:

·         The hackathon consists of challenges that are posted as problem statements and, are based on specific drug discovery topics which, are open to the participants to solve.

·         My Gov portal is being used and any Indian student can participate.

·         Professionals and researchers from anywhere in the world can participate.

·         Two kinds of challenges problem statements (PS) are being offered and a total of 29 have been identified.

·       Track 1 will primarily deal with drug design for anti-COVID-19 hit/lead generation: this is done using tools such as molecular modeling, pharmacophore optimization, molecular docking, hit/lead optimization, etc.

·         Track 2 will deal with designing/optimizing new tools and algorithms which will have an immense impact on expediting the process of in silico drug discovery

·         There is also a third track called “Moon shot “which allows for working on problems which are ‘out of the box’ nature.

click the link  https://innovateindia.mygov.in/ddh2020/   for more details on Drug Discovery Hackathon 2020 

 

Source   pib-

 


केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने संयुक्त रूप से ड्रग डिस्क्वरी हैकथॉन 2020(डीडीएच 2020)की शुरूआत की


केन्‍द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’,और,केन्‍द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण और विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने राज्‍य मंत्री श्री संजय धोत्रे की उपस्थिति में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से ड्रग डिस्कवरी हैकथॉन का शुभारंभ किया।

  • यह ड्रग डिस्कवरी हैकथॉन एमएचआरडी,एआईसीटीई और सीएसआईआर की एक संयुक्त पहल है और इसे सीडीएसी,मायगोव, श्रोडिंगर और केमएक्सॉन जैसे भागीदारों का समर्थन प्राप्‍त है।
  • यह हैकथॉन दवा की खोज प्रक्रिया को प्रोत्‍साहित करने के लिए अपनी तरह की पहली राष्ट्रीय पहल है।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभाओं को आकर्षित करने के लिए हैकथॉन दुनिया भर के,कंप्यूटर विज्ञान,रसायन विज्ञान,फार्मेसी,चिकित्सा विज्ञान,बुनियादी विज्ञान और जैव प्रौद्योगिकी जैसे विभिन्न क्षेत्रों के पेशेवरों,प्राध्‍यापकों,शोधकर्ताओं और छात्रों के लिए खुला रहेगा।
  • यह पहल दुनिया भर के शोधकर्ताओं / संकायों के लिए खुली है क्योंकि हम अपने प्रयासों में अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभाओं को शामिल करने और उनके समर्थन को आकर्षित करने के लिए उत्सुक हैं। 
  • इस पहल में,हैकथॉन के माध्यम से एमएचआरडी के नवोन्‍मेष प्रकोष्‍ठ और एआईसीटीई संभावित दवा अणुओं की पहचान करने पर अपना ध्यान केन्‍द्रित करेंगे,जबकि सीएसआईआर इन पहचाने गए अणुओं को प्रभावोत्‍पादकता,विषाक्तता, संवेदनशीलता और विशिष्टता के लिए संश्लेषण और प्रयोगशाला परीक्षण के लिए आगे ले जाएगा।
  • इसका उद्देश्य हैकॉथन के माध्यम से इन-सिलिको ड्रग खोज द्वारा सार्स–सीओवी-2 के खिलाफ दवा परीक्षण करने वाले की पहचान करना और उसके बाद रासायनिक संश्लेषण और जैविक परीक्षण करना है।
  • यह हैकथॉन दवा की खोज प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए भारत को नए मॉडल स्थापित करने में मदद करेगा।
  • इसमें प्रत्येक महीने के तीन चरण होंगे और अप्रैल-मई 2021 तक पूरी कवायद पूरा होने का अनुमान है। प्रत्येक चरण के अंत में सफल टीमों को पुरस्कृत किया जाएगा। चरण 3 के अंत में पहचाने गए 3 लीड ’यौगिकों को सीएसआईआर और अन्य इच्छुक संगठनों में प्रायोगिक स्तर के लिए आगे ले जाया जाएगा।
  • हैकथॉन  मुख्य रूप से दवा की खोज के कम्प्यूटेशनल पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करेगा और इसमें तीन ट्रैक्स होंगे।
  • ट्रैक -1 ड्रग डिज़ाइन के लिए कम्प्यूटेशनल मॉडलिंग या मौजूदा डेटाबेस से’लीड’यौगिकों की पहचान करने से संबंधित होगा,जिसमें सार्स-सीओवी-2  को रोकने की क्षमता हो सकती है,जबकि ट्रैक -2 प्रतिभागियों को न्यूनतम विषाक्तता और अधिकतम विशिष्टता और चयनात्मकता के साथ दवा जैसे यौगिकों की भविष्यवाणी के लिए डेटा एनालिटिक्स और एआई/एमएल का उपयोग करके नए टूल और एल्गोरिदम विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। तीसरा ट्रैक,जिसका नाम ट्रैक 3 है एक मून-शॉट दृष्टिकोण है जो  इस क्षेत्र में केवल अनोखे और असाधारण रूप से लाभदायक विचारों से निपटेगा।
  • हैकथॉन में ऐसी चुनौतियाँ शामिल हैं जिन्हें विषय के संक्षिप्‍त विवरणों के रूप में पोस्ट किया जाता है और,विशिष्ट दवा खोज विषयों पर आधारित होते हैं,जो प्रतिभागियों के हल करने के लिए खुले रहते हैं।
  • प्रतियोगिता भारत और विदेशों के सभी भारतीय छात्रों और शोधकर्ताओं के लिए खुली है।
  • यह एक ऑनलाइन प्रतियोगिता है और देश या दुनिया में कहीं भी कोई भी भाग ले सकता है। विजेताओं को पुरस्कार दिए जाएंगे और प्रतियोगिता के चरण 2 में सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टियां ली जाएंगी। स्टेज 2 का सर्वश्रेष्ठ चरण 3 में जाएगा।
  • योजना यह है कि चरण 3 के अंत में ड्रग अणुओं या ड्रग टारगेट जैसे सर्वोत्तम समाधानों को प्रायोगिक स्तर पर ले जाया जाएगा और सीएसआईआर प्रयोगशालाओं या स्टार्ट-अप द्वारा या उनके पूर्वानुमानों के लिए मान्य किया जाएगा।

हैकथॉन की पृष्ठभूमि और कार्यप्रणालीकी जानकारी:

• हैकथॉन में ऐसी चुनौतियाँ शामिल हैं जिन्हें विषय के संक्षिप्त विवरण के रूप में पोस्ट किया जाता है और यह विशिष्ट दवा खोज विषयों पर आधारित हैं, जो प्रतिभागियों के हल करने के लिए खुले हैं।

• माईगव पोर्टल का उपयोग किया जा रहा है और कोई भी भारतीय छात्र भाग ले सकता है।

• दुनिया के किसी भी हिस्से से पेशेवर और शोधकर्ता भाग ले सकते हैं।

• दो तरह की चुनौतियां विषय का संक्षिप्‍त विवरण (पीएस) पेश की जा रही हैं और कुल 29 की पहचान की गई है।

• ट्रैक 1 मुख्य रूप से एंटी- कोविड​​-19 हिट / लीड जनरेशन के लिए ड्रग डिज़ाइन का काम देखेगा: यह आणविक मॉडलिंग, फार्माकोफोर ऑप्टिमाइज़ेशन, आणविक डॉकिंग, हिट / लीड ऑप्टिमाइज़ेशन, आदि जैसे उपकरणों का उपयोग करके किया जाता है।

• ट्रैक 2 नए उपकरणों और एल्गोरिदम के डिजाइन / अनुकूलन के साथ काम करेगा, जिसका सिलिका ड्रग की खोज की प्रक्रिया में तेजी लाने पर प्रभाव पड़ेगा।

• “मून शॉट” नामक एक तीसरा ट्रैक भी है जो उन समस्याओं पर काम करने की अनुमति देता है जो अनोखी और असाधारण प्रकृति की हैं।

ड्रग डिस्‍कवरी हैकथॉन 2020 के बारे में ओर जानकारी के लिए https://innovateindia.mygov.in/ddh2020/ लिंक पर क्लिक करें ।

 

स्रोत    pib-

Print Friendly, PDF & Email